पूर्व चीफ जस्टिस गोगोई के राज्यसभा के लिए नामित होने पर ओवैसी ने उठाए सवाल,देखिए

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के चर्चित पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई का राज्यसभा के लिये नामित होना इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है,क्योंकि केंद्र सरकार की तरफ से सोमवार देर शाम जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामित किया है।

इस बीच, जस्टिस रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामित किए जाने पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी आने लगी हैं. एआईएमआईएम मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘क्या यह ‘इनाम है’? लोगों को जजों की स्वतंत्रता में यकीन कैसे रहेगा? कई सवाल हैं.’

बहरहाल, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के रूप में रंजन गोगोई का कार्यकाल करीब साढ़े 13 महीने का रहा. इस दौरान उन्होंनें कुल 47 फैसले सुनाए, जिनमें से कुछ ऐतिहासिक फैसले भी शामिल हैं।

जस्टिस रंजन गोगोई ने कई अहम मामलों की सुनवाई की और फैसले सुनाए. उन्हें अयोध्या मामले, चीफ जस्टिस के ऑफिस को आरटीआई के दायरे में लाने, राफेल डील, सबरीमाला मंदिर और सरकारी विज्ञापन में नेताओं की तस्वीर प्रकाशित करने पर पाबंदी जैसे मामलों पर फैसले देने के लिए हमेशा याद किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *