“नबी पाक हमारे दिल मे रहते हैं “संयुक्त राष्ट्र में यूरोपियन नेताओं से इमरान खान ने कहा,जानिए क्यों ?

नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74 अधिवेशन में इमरान खान अपने भाषण को लेकर काफी चर्चाओं में हैं सोशल मीडिया पर काफी शौहरत हासिल करने के बाद इमारत खान ट्वीटर पर नम्बर वन ट्रेंड करने लगे।

इमरान खान ने दुनियाभर में फैल रहे इस्लामोफोबिया के खिलाफ जमकर अपनी भड़ास निकाली और कहा कि 9/11 के बाद, इस्लामोफोबिया पूरी दुनिया खतरनाक रूप से फैला है। कुछ पश्चिमी देश के नेताओं ने इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ा जिसके कारण इस्लामोफोबिया ने जन्म लिया है।

इमरान खान ने कहा कि कट्टरपंथी इस्लाम या आतंकवादी इस्लाम जैसी कोई धारणा इस्लाम में नहीं है, इस्लाम केवल एक है जो पैगंबर मुहम्मद ने हमें सिखाया है,बड़े अफसोस की बात है कि कुछ नेता इस्लामी आतंकवाद और कट्टरपंथ के शब्दों का उपयोग करते हैं, यह एक दया है कि मुस्लिम देशों के प्रमुखों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया है।

इमरान ने कहा कि आत्मघाती हमले 9/11 से पहले, ज्यादातरतमिल टाइगर्स द्वारा किए गए थे, तमिल टाइगर्स हिंदू थे, लेकिन किसी ने भी हिंदू धर्म को आतंकवाद से नहीं जोड़ा।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि पश्चिमी लोग यह नहीं समझते हैं कि पैगंबर मुहम्मद का अपमान मुसलमानों के लिए एक बहुत ज्यादा दुःख दायक है। जब इस्लाम के अपमान के लिए मुसलमानों की प्रतिक्रिया सामने आती है, तो हमें चरमपंथी कहा जाता है। जबकि इस्लाम ने ही गुलामी को समाप्त किया और अल्पसंख्यकों को समान अधिकार दिए।

इमरान खान ने कहा कि नबी पाक स.आ.वसल्लम हमारे दिलों में रहते हैं,जब कोई उनकी तौहीन करता है तो हमें शारीरिक तकलीफ से ज्यादा दुःख पहुंचता है यूरोप को ये बात समझनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *