दुबई की राजकुमारी ने ओवैसी बन्धुओं के बारे में किया ट्वीट,सोशल मीडिया पर हुई चर्चा,देखिए

नई दिल्ली: दुबई की राजकुमारी हिन्दा अल कासिमी इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी चर्चाओं में हैं क्योंकि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर कई लोग कोरोना संक्रमण को समुदाय विशेष से जोड़कर सांप्रदायिक टिप्पणियां कर नफरत फैला रहे हैं।

इस नफरत के बीच संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) की प्रिसेंस हेंद अल कास‍िमी ने लोगों को शांति और सद्भावना का संदेश दिया है। प्रिंसेस ने भारत के लोगों से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को याद करने की अपील भी की है।

राजकुमारी ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि भारत एक समुदाय है। जैसे ही आप एक बार उपयोग करते हैं, एक दूसरे को स्वीकार करें। क्या आप जानते हैं कि अमेरिका, यूरोप और अरब में भारतीय अपने आप को सुरक्षित क्यों महसूस करते हैं? क्योंकि आपको नए सिरे से शुरुआत करने, सफल होने, कमाने, जीने और प्यार में पड़ने का सुनहरा अवसर मिलता है।

राजकुमारी हिन्दा ने ट्वीटर पर ओवैसी बन्धुओं के बारे में सवाल करते हुए पूछा है कि Who are the Owaisi brothers ? जिसके बाद से सैकड़ों यूजर्स राजकुमारी को ओवैसी के बारे में बताया है और उन्हें मज़लूम और बेबस लोगो की निडर आवाज़ बताया है,ओवैसी के बारे में राजकुमारी द्वारा दिखाई गई रूचि सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है।

राजकुमारी को गांधी के शांतिपूर्वक तरीके पर भरोसा
राजकुमारी हेंद UAE में ही पैदा हुईं हैं और उनके पिता डॉक्टर जबकि मां स्कूल में प्रिंसिपल थीं। गांधीजी के नाम से राजकुमारी ने ट्विटर पर जो कहा वो असल में उनके नहीं मशहूर फिल्म गांधी का डायलॉग है। फिल्म के बाद ये डायलॉग गांधीजी की कही मशहूर बात के रूप में मशहूर हो गया।

राजकुमारी ने आगे लिखा, ‘गांधीजी सभी लोगों के अधिकारों और गरिमा के लिए बेखौफ होकर अभियान चलाते थे। उन्‍होंने लोगों के दिल और दिमाग को जीतने के लिए लगातार अहिंसा को बढ़ावा दिया। इसने पूरी दुनिया पर अपनी एक अमिट छाप छोड़ी। मैं गांधी की मुरीद हो गई और मैं अब घृणा से निपटने के लिए गांधी के शांतिपूर्वक तरीके पर भरोसा करती हूं।

प्रिसेंस हेंद अल कासिमी ने इस ट्वीट का करारा जवाब देते रीट्वीट में लिखा कि UAE में इस तरह का व्यवहार सहन नहीं किया जाएगा। हेट स्‍पीच के खिलाफ अभियान चलाने वाली राजकुमारी ने लिखा, ‘घृणा फैलाने वाली बातें नरसंहार की शुरुआत है। महात्‍मा गांधी ने एक बार कहा था, आंख के बदले आंख लेने से दुनिया अंधी हो जाएगी। हमें अपने खूनी इतिहास से सबक लेना चाहिए। हमें यह समझना होगा कि मौत से मौत पैदा होती है और प्‍यार से प्‍यार का जन्‍म होता है। समृद्धि की शुरुआत भी शांति से होती है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *